बीते 10 दिनों के अंदर पटना के 30 घरों में मिला डेंगू का लार्वा, रहें सावधान

पटना
कोरोना संक्रमण की थमती रफ्तार के बीच अब शहर में मौसम और मच्छरजनित बीमारियों का प्रकोप बढ़ने लगा है. ऐसे में अब स्वास्थ्य विभाग ने निगरानी के साथ ही सख्ती भी बढ़ा दी है. डेंगू के बढ़ते मामलों पर लगाम लगाने के लिए बड़े स्तर पर अब घर व मुहल्ले में सर्वे अभियान चलाया जा रहा है. बीते 10 दिनों के अंदर तीन दर्जन टीमों ने शहर के अलग-अलग वार्डों में हर घर में जमा हुए साफ पानी के माध्यम का पता लगाया है और उसे नष्ट किया.

इस दौरान 30 से ज्यादा घरों में कूलरों, पानी की टंकी, टायर व जूतों में भरे पानी में एडिज मच्छर के लार्वा तैरते मिले. लार्वा को नष्ट करते हुए सबंधित मकान मालिकों को नोटिस दिया गया. जमा पानी में एंटी लार्वा दवाइयां छिड़की गयीं व फॉगिंग की गयी.

डेंगू को लेकर बनायी गयी टीम के सदस्यों की मानें, तो अब तक करीब 1000 से ज्यादा घरों में सर्वे किया जा चुका है. इस दौरान केवल 30 घरों में लार्वा मिला. अधिकारियों का कहना है कि जिनके कूलर में लार्वा मिले, वे लोग इससे अनजान थे. इससे डेंगू फैलने का खतरा बढ़ रहा है.

पारस अस्पताल के वरिष्ठ फिजिशियन डॉ विमल कुमार राय ने बताया कि डेंगू को लेकर सभी लोगों को सावधान रहना चाहिए. क्योंकि डेंगू के मच्छर दिन में काटते हैं, इसलिए ज्यादा सावधानी की जरूरत है. उन्होंने कहा कि डेंगू के 4 प्रकार के वायरस होते हैं. ये डी-1, डी-2, डी-3, डी-4 वायरस होते हैं. डेंगू होने पर बुखार उतरता नहीं, कंपकंपी के साथ बना रहता है.

सिविल सर्जन डॉ विभा कुमारी ने बताया कि डेंगू, वायरल निमोनिया को लेकर सिविल सर्जन कार्यालय की टीम अलर्ट है. नगर-निगम के साथ मिल कर टीम डेंगू लार्वा को नष्ट करने में जुटी है. वहीं डेंगू की रोकथाम के लिए लोगों को स्वास्थ्य विभाग को भी सहयोग करना चाहिए. उन्हें निजी स्तर पर अपने घरों में साफ-सफाई का ध्यान देना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *