नवरात्रि के उपवास के नाम पर कभी न करें ये गलतियां, वर्ना होंगी बड़ी परेशानियां

शास्त्रों के अनुसार, सनातन धर्म में शारदीय नवरात्रि (Shardiya navratri 2021) को बहुत महत्व दिया जाता है। लोग नवरात्रि भर उपवास रखते हैं और 9 दिन में मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा करते हैं। 9 दिन तक चलने वाला यह उत्सव इस बार 7 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। जो लोग व्रत-उपवास दोनों को चुनते हैं, उन्हें अपने खान-पान में कुछ सावधानियां बरतने की भी जरूरत होती है। भले ही इस बात से कोई इंकार नहीं किया जा सकता है कि उपवास का हमारी सेहत को कोई नुकसान नहीं है लेकिन इसके दौरान आपको कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक है।

व्रत करने के बीच हमें किन चीजों से सावधानी रखनी चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए, इस बारे में हमने आशादीप हॉस्पिटल एवं हर्ट रिसर्च सेंटर के (MD) फिजिशयन डॉक्टर बी एस उपाध्याय से बात की है। डॉक्टर ने उन लोगों को कुछ बातों का ध्यान रखने की सलाह दी है जो उपवास रख रहे हैं। इससे आपकी सेहत को लाभ ही होगा, न कि कोई हानि।

​शरीर में न होने न दें पानी की कमी

हृदय एवं डायबिटीज रोग विशेषज्ञ डॉ. बीएस उपाध्याय बताते हैं कि बहुत से लोग बिना अन्न-जल किए उपवास रखते हैं लेकिन निर्जलीकरण (Dehydration) कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे आप अनुभव करना चाहते हैं। वे कहते हैं कि शरीर के उचित कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए आप अपनी सेहत से खिलवाड़ न करें। हमेशा अपने शरीर को पर्याप्त पानी पिलाएं और उत्सव को हर्षोल्लास से मनाएं। उपवास में आप नारियल पानी, दूध और ताजे फलों के जूस जैसे तरल पदार्थों का सेवन कर सकते हैं।

ज्यादा न खाएं

डॉ. उपाध्याय का कहना है कि बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं जो स्वाद के चक्कर में जरूरत से ज्यादा फास्टिंग फूड खा लेते हैं। जैसा कि हम जानते हैं कि उपवास के दौरान व्यंजन बहुत स्वादिष्ट लगते हैं लेकिन इन्हें सीमित मात्रा में ही खाएं। यदि आप अपने खाने की आदतों को संयमित नहीं करते हैं, तो ये न केवल आपके उपवास के उद्देश्य को खत्म कर देगा बल्कि आपके पाचन तंत्र पर भी असर डालेगा। अपने आहार में ताजे फल शामिल करें, न कि तली हुई चीजों का सेवन अधिक मात्रा में करें। तैलीय भोजन आपको फूला हुआ भी महसूस करा सकते हैं। साथ ही इससे गैस, ब्लोटिंग और डाइजेशन की समस्याएं भी हो सकती हैं।

​चीनीयुक्त खाद्य पदार्थों से बचाव करें

बाजार में उपलब्ध बहुत सारी मिठाइयां रिफाइंड या प्रोसेस्ड चीनी से बनाई जाती हैं जो आपकी सेहत के लिए अस्वस्थ होती हैं। इनके सेवन से जितना हो सके आपको बचना चाहिए, क्योंकि इससे आपको बहुत सारी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इसके बजाय, बेहतर होगा अगर आप अपने घर पर मिठाई बनाएं और चीनी के स्वस्थ विकल्प जैसे गन्ना और गुड़ चुनने का प्रयास करें।

​फाइबर युक्त भोजन करें

डॉ. का मानना है कि नवरात्रों के दौरान, जब आपको कम मात्रा में खाना होता है, तो यह आवश्यक है कि आप ऐसे खाद्य पदार्थ चुनें जो फाइबर से भरपूर हों और पचने में अधिक समय लेते हों, जिससे आपको लंबे समय तक भरा हुआ रहने में मदद मिलती है। आप सामक का आटा, राजगीर, सिंघाड़ा, कद्दू और अरबी का कई फॉर्म में सेवन कर सकते हैं।

​पैकेज्ड फूड से बचें

हम जानते हैं कि बाजार में व्रत के अनुकूल नमकीन, चिप्स और भोजन जैसे कई आसान विकल्प उपलब्ध हैं। हालांकि, याद रखें कि बाजार की चीजें बहुत सारी रिफाइंड स्टेज से गुजरती हैं जो कि व्रत में सेहत के लिए कहीं से भी फायदेमंद नहीं हैं और न ही ये आपके उपवास के उद्देश्य की पूर्ति करती हैं। आजकल मार्केट में उपवास की चिप्स भी काफी वैरायटी में उपलब्ध हैं लेकिन अगर आप सेहत के प्रति सजग हैं तो घर पर घी में आलू के चिप्स खाएं।

​इस तरह की हेल्दी स्नैकिंग का करें चुनाव

डॉ. की सलाह है कि अगर आपको हल्के फुल्के स्नैक्स का मन है तो चिप्स की बजाए आप मखाने को घी में भूनकर खाएं। इससे आपकी सेहत को कई स्वस्थ्य लाभ मिलते हैं। फॉक्सनट्स बेहद हेल्दी होते हैं जो विटामिन और आयरन से भरपूर होते हैं। मखाने के अलावा आप शकरकंद फ्राई, भुने हुए मेवे जैसे कुछ भी बना सकते हैं जो आपकी कमर या कोलेस्ट्रॉल के स्तर के लिए हानिकारक नहीं होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *