ये सिम्पटम्स बनाता है कोरोना के डेल्टा वेरिएंट को ओमिक्रोन से अलग

2019 में जब कोविड-19 की शुरुआत हुई थी, उसके बाद लगातार हम इस वायरस में परिवर्तन देख रहे हैं। बीते कुछ दिनों में डेल्टा वायरस ने पूरे विश्व को प्रभावित किया है। अब नया वैरीएंट ओमीक्रोन सामने आ चुका है। विशेषज्ञों के बीच चिंता का विषय है कि क्या ओमीक्रोन, डेल्टा वैरीअंट से भी ज्यादा ट्रांसमिएबल है? क्या इसके लक्षण बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं?

ओमीक्रोन वायरस, डेल्टा वायरस से भी तेज गति से फैलने को पूरी तरह से तैयार है। यह 63 देशों में फैल चुका है। लेकिन जब ओमीक्रोन को लेकर लक्षणों की बात आती है तब विशेषज्ञ इसे लेकर थोड़े कम चिंतित दिखाई देते हैं ऐसा क्यों है? आइए इसे समझते हैं।

​ओमीक्रोन के लक्षण हैं काफी माइल्‍ड

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के अनुसार कोविड वायरस का नया वेरिएंट ओमीक्रोन बहुत जल्द एक से दूसरे तक फैलने की क्षमता रखता है। जो लोग पहले भी कोविड-19 से संक्रमित हो चुका है, जो पहले से पूरी तरह से वैक्सीनेटेड है, उन्हें भी ओमीक्रोन के संक्रमण का खतरा हो सकता है। लेकिन इसके बावजूद भी ग्लोबल हेल्थ एजेंसी कहती है ओमीक्रोन से संक्रमित व्यक्ति में किसी भी तरह के खतरनाक लक्षण नहीं देखे गए हैं। ये डेल्टा वेरिएंट की तुलना में लोगों को कम परेशान कर रहा है।

​क्‍या कहते हैं साउथ अफ्रीका के विशेषज्ञ?

साउथ अफ्रीका से ही ओमीक्रोन वैरीअंट की शुरुआत हुई है। यहां के डॉक्टर एंजेलिक कोएट्जी जो साउथ अफ्रीकन मेडिकल एसोसिएशन के चेयरपर्सन है। उनका कहना है ओमीक्रोन से संक्रमित व्यक्ति में कोई खास तकलीफ अभी तक नहीं देखी गई है। विशेषज्ञ अभी भी इस पर रिसर्च कर रहे हैं। हर बार कोविड-19 के वायरस में बदलाव देखा जाता है इसलिए इस पर रिसर्च जारी है।

​हर मरीज में नहीं दिखता खांसी और बुखार जैसा लक्षण

ओमीक्रोन से संक्रमित पेशेंट में तेज शारीरिक दर्द देखा गया है। ऐसे लोगों को शरीर के हर हिस्से में बहुत ज्यादा तकलीफ होती है। डॉक्टर अनबन पिल्ले जो साउथ अफ्रीका के डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ में काम करते हैं। उनके अनुसार ओमीक्रोन वैरीएंट से प्रभावित लोगों को रात के समय बहुत ज्यादा पसीना भी आता है। इसके इसके साथ ही दर्द भी तेज होता है। जब ओमीक्रोन वेरिएंट का वायरस हमारे शरीर में प्रवेश करता है तो हमारा इम्यून सिस्टम इससे लड़ने को तैयार हो जाता है। इस इन्फ्लेमेशन के कारण ही शारीरिक दर्द देखा गया है। लेकिन ओमीक्रोन से प्रभावित हर व्यक्ति में खांसी और बुखार जैसी तकलीफ दिखाई नहीं देती है।

​ओमीक्रोन के दूसरे लक्षण

शुरुआत से ही डॉक्टर यह बता रहे हैं कि स्वाद और सुगंध में कमी ही कोविड-19 के प्रमुख लक्षणों में से एक है। लेकिन डॉक्टर एंजेलिक कोएटजी के अनुसार ओमीक्रोन से प्रभावित व्यक्तियों में यह लक्षण नहीं देखा गया है। इसके साथ ही इस नए वेरिएंट में बंद नाक या गले में भी किसी तरह की तकलीफ नहीं देखी जा रही है। हां कुछ लोगों को तेज बुखार जरूर होता है जो वक्त रहते हीं ठीक भी हो जाता है।

ओमीक्रोन से प्रभावित हर व्यक्ति को शरीर में तेज दर्द, चक्कर, थकान, गले में थोड़ी तकलीफ, रात में पसीना ज्यादा आना, जैसे सिम्टम्स देखे गए हैं। कुछ लोगों को इसमें बुखार भी तेज होता है।

अगर हम सिर्फ ओमीक्रोन की नहीं बल्कि पूरे कोविड-19 वायरस की बात करें तो यह वायरस रेस्पिरेट्री सिस्टम को प्रभावित करता है। इसमें ड्राई कफ, सांस लेने में तकलीफ, चेस्ट पेन, ब्लड ऑक्सीजन लेवल का कम होना, तेज बुखार जैसे लक्षण देखे गए हैं। अगर ऐसे लक्षण दिखाई दे तो डॉक्टर से तुरंत सलाह लेनी चाहिए। इसके साथ ही कोविड-19 के सभी नियमों का पालन हमें करना चाहिए। ताकि हम कोविड-19 से सुरक्षित रह सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *