MP के रीवा में फिर बम की अफवाह, जांच करने पहुंची BDS टीम

रीवा
मध्‍य प्रदेश के रीवा में एक बार फिर बम की अफवाह से हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई। विदित हो कि जिले में 26 जनवरी को भी इसी तरह की बाक्‍स मिलने के बाद हड़कंप मच गया था। जहां एक पत्र भी मिला था। जिले में शनिवार को फिर विस्फोटक मिलने की अफवाह से हड़कंप मच गया। बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटक को अपने कब्जे में लेकर पड़ताल की। 3 घंटे तक इलाके के लोग दहशत में थे । जांच में यह विस्फोटक नकली बम पाया गया है। इसे दहशत फैलाने के लिए लगाया गया था। पुलिस का मानना है कि शरारती तत्व लगातार नकली बम रखकर अफवाह फैला रहे है।

मामला रीवा जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर मऊगंज थाना पतेहरी ओवर ब्रिज के नीचे का है। नेशनल हाइवें 133 रीवा बनारस को जोड़ने वाली सड़क के नीचे ओवरब्रिज में बम होने की खबर से हड़कंप मच गया। लगभग 3 घंटे तक अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। हाइवे को बंद कर बम निरोधक दस्ते ने पड़ताल शुरू की। इस बार पूर्व में मिले नकली बम से अलग तरह का था। लाल रंग के इस बॉक्स को बम की शक्ल दी गयी थी। जांच में यह खाली डिब्बा पाया गया।

इससे पहले 26 जनवरी को मनगवां आंबी पुल में भी विस्फोटक लगे होने की सूचना मिली। इस सूचना के बाद पूरे इलाके में हड़कंप मंच गया था। बम निरोधक दस्ता मौके पर पहुंचा और पड़ताल शुरू की। यहां पर एक लाल डिब्बा था जिस पर धड़ी का कांटा लगातार बढ रहा था। दस्ते नें इस विस्फोटक को कब्जे में लेकर डिफ्यूज कर दिया और अपनी पीठ थपथपाई लेकिन जांच के बाद मामला साफ हो गया। यह विस्फोटक नही बल्कि एक खाली डिब्बा था जिसे दहशतगर्दों ने दहशत फैलाने के लिए रखा था। ठीक इसी तरह का विस्फोटक गंगेव चौकी क्षेत्र के हाइवें में रखा मिला। इस विस्फोटक को भी बम निरोधक दस्ते ने अपने कब्जे में लिया है।

पुलिस को मौके पर से धमकी भरा एक पत्र मिला था जिसमें यूपी के मुख्यमंत्री योगी का जिक्र किया गया था। प्रयागराज में पेट्रोल बम रोकने की धमकी दी गई थी। विस्फोटक होने की अफवाह से पुलिस के हाथ-पांव फूल रहे थे। पुलिस जान जोखिम में डालकर विस्फोटक को डिस्पोज करने की बात कह रहे थे लेकिन जांच के बाद पाया गया कि यह सिर्फ खाली डिब्बा था। जिसे दहशत फैलाने के लिए रखा गया था। गौरतलब है कि रीवा उत्तरप्रदेश की सीमावर्ती जिला है यहां मार्ग बनारस को जोड़ता है। यह से मिर्जापुर की दूरी महज 70 किलोमीटर है।

एएसपी शिव कुमार वर्मा ने बताया की दहशत फैलाने के लिए शरारती तत्वों ने इस डिब्बे को रखकर विस्फोटक होने की अफवाह फैलाई है। यह नकली बम था इसमें किसी तरह का कोई विस्फोटक नही था। पुलिस अब इस पूरे मामले की जांच कर रही है कि आखिरकार किसने यहां इस तरह की अफवाह फैलाई है और इसका मकसद क्या है।

हाईवे में बंम की यह तीसरी घटना
यूपी को जोड़ने वाले रीवा के हाईवें में बम लगाए जाने की यह तीसरी घटना सामने आई हैं। तीन दिन पूर्व सोहगी स्थित हाईवें में बंम नुमा लाल डिब्बा पाया गया था। तो वही 26 जनवरी को मनगंवा एवं गंगेव नेशनल हाईवें में टाइमरबंम होने के चलते रीवा जिला बंम प्लांट का जिला बन गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *