नागरिकता का केस लड़ रहे शख्स ने की आत्महत्या, बेटी बोली- NRC में नाम आने से परेशान थे पापा

 गुवाहाटी
राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (NRC) में नाम होने के बावजूद विदेशी (नागरिक) अधिकरण में मुकदमा लड़ रहे 60 साल के व्यक्ति ने आत्महत्या कर ली है। असम में मोरीगांव जिले का यह मामला है। पुलिस अधिकारियां ने बताया कि बोरखाल गांव के मणिक दास के परिवार ने दावा किया है कि दास को अपनी भारतीय नागरिकता साबित करने के लिए अधिकरण की कार्यवाही का सामना करने के दौरान मानसिक प्रताड़ना और परेशानी झेलनी पड़ी, जिसकी वजह से उसने आत्महत्या कर ली। पुलिस ने कहा कि दास रविवार से लापता था और मंगलवार शाम को उसके घर के पास एक पेड़ से लटका हुआ उसका शव  मिला।  अधिकारी ने बताया, "शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। शुरुआत में यह आत्महत्या का मामला लग रहा है, लेकिन हम यह पोस्टमॉर्टम के बाद ही निश्चित रूप से कह सकते हैं।"

बेटी बोली- मेरे पिता का नाम NRC में आया
मृतक के परिवार ने आरोप लगाया कि मोरीगांव में फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल-2 में उसके खिलाफ मामला चल रहा था, जिससे वह काफी टेंशन में रहता था। दास की नाबालिग बेटी ने कहा, "मामला कई सालों से चल रहा है। हमें नहीं पता कि पुलिस ने उसे नोटिस क्यों भेजा और मामला दर्ज कर लिया। मेरे पिता का नाम एनआरसी में आया। वह पूरी प्रक्रिया के कारण निराश थे और मानसिक यातना का सामना कर रहे थे।"

पुलिस बोली- घरेलू मुद्दे हो सकते हैं वजह
मृतक के परिवार में उसकी पत्नी, दो बेटे और एक बेटी है। बेटी ने यह भी दावा किया कि दास के पास पैन कार्ड, आधार कार्ड और भूमि रिकॉर्ड जैसे सभी वैध कानूनी पहचान दस्तावेज थे। मोरीगांव के पुलिस उपाधीक्षक (सीमा) डी आर बोरा ने कहा कि पारिवारिक मुद्दों की वजह से दास ने यह कदम उठाया होगा। उन्होंने कहा, "कथित आत्महत्या को एफटी मामले से जोड़ना पूरी तरह गलत है। आत्महत्या का कारण घरेलू मुद्दे हो सकते हैं।"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *