अलीगढ़ डिग्री कॉलेज में हिजाब और भगवा गमछा प्रतिबंधित

  अलीगढ़

कर्नाटक से शुरू हुआ हिजाब का मुद्दा लगातार जोर पकड़ता जा रहा है. अलीगढ़ धर्म समाज डिग्री कॉलेज में छात्रों ने हिजाब के विरोध में भगवा चोला ओढ़ कर कैंपस में विरोध जताया था और उसके बाद एक ज्ञापन देकर कॉलेज कैंपस में बुर्का बैन की मांग की थी, जिसके बाद अलीगढ़ में भी राजनीतिक बयान बाजी देखने को मिली थी. आनन-फानन में कॉलेज प्रशासन ने कॉलेज कैंपस में बुर्का, गमछा बैन करते हुए ड्रेस कोड लागू करने के नोटिस चस्पा कर दिए हैं. इसके बाद छात्र भी इस नोटिस को लेकर चर्चा करते हुए नजर आ रहे हैं.

धर्म समाज महाविद्यालय के छात्र मोहित चौधरी ने बताया कि उन्होंने यहां से एलएलबी की है. उन्होंने दावा किया कि पूर्व में प्रिंसिपल को ज्ञापन देकर वे अवगत करा चुके हैं कि यहां पर हिजाब-टोपी और बुर्का को प्रतिबंध किया जाना चाहिए. विवाद बढ़ने के बाद संज्ञान में आया है कि कॉलेज प्रशासन ने एक नोटिस चस्पा किया है और उसका विरोध हमने 2 दिन पहले भगवा पहन कर पठन-पाठन किया था अभी नोटिस चस्पा कर दिया है. कॉलेज प्रशासन से हम मांग करते हैं कि वह जल्द से जल्द इस नियम को फॉलो कराए. ऐसा ना होने पर हिंदू छात्र भगवा ओढ़कर दोबारा कॉलेज आएंगे.

वहीं धर्म समाज कॉलेज की छात्रा अदीबा आरिफ ने बताया कि वह बीएससी फर्स्ट ईयर की छात्रा हैं. उन्होंने कहा कि कॉलेज में हिजाब पहन लिया तो क्या हुआ. ड्रेस कोड के लिए कॉलेज के बाहर नोटिस चस्पा होने पर उन्होंने कहा कि अब बैन कर दिया है तो पहनकर नहीं आ पाएंगे.

डीएस कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर राजकुमार वर्मा ने बताया कि जो विद्यार्थी कॉलेज में चेहरा ढक कर आ रहे हैं हम उन्हें बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम चाहते हैं कि जो छात्र कॉलेज में पढ़ने आ रहे हैं वह चेहरा खोल कर आएं. हमने चीफ प्रॉक्टर से मिलकर एक योजना बनाई है और कॉलेज के बाहर नोटिस चस्पा किया है. इसमें अंकित किया गया है कि जो भी विद्यार्थी कॉलेज परिसर में आते हैं वह ड्रेस कोड में आएं. प्राचार्य ने हिजाब मामले पर कहा कि कॉलेज कैंपस में बच्चों से कहा जाएगा कि आप ना तो हिजाब पहनकर आएं और ना ही भगवा गमछा डाल कर आएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *