वार्ता के दौरान रूस ने और तेज कर दिए थे यूक्रेन पर हमले, रुकने को तैयार नहीं हैं पुतिन?

कीव।

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध जारी है। हालांकि, कल दोनों देशों के बीच वार्ता भी हुई, लेकिन इसका फिलाहल कोई नतीजा निकलता नहीं दिख रहा है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की का दावा है कि जिस समय दोनों देशों के बीच वार्ता हो रही थी, उस समय रूसी सेना ने हमारे शहरों पर हमले तेज कर दिए थे। उन्होंने इसे दबाव बनाने की रणनीति बताया है। यूक्रेनी राष्ट्रपति ने सोमवार देर रात एक वीडियो संबोधन में कहा, "वार्ता के दौरान भी हमारे क्षेत्र और हमारे शहरों में बमबारी हो रही थी। बातचीत के दौरान इसे और तेज कर दिया। हमारे ऊपर दबाव बनाने की कोशिश की गई।'' यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा, ''मेरा मानना ​​​​है कि इस हथकंडे से रूस यूक्रेन पर दबाव नहीं बना पाएगा।"

राष्ट्रपति जेलेंस्की ने घंटों चली बातचीत के बारे में खुद कोई जानकारी नहीं दी। लेकिन उनका कहना है कि जब एक पक्ष रॉकेट और तोप से हमला कर रहा हो, ऐसे समय में यूक्रेन रियायतें देने के लिए तैयार नहीं है। ज़ेलेंस्की का कहना है कि कीव रूसियों के लिए एक महत्वपूर्ण टारगेट बनी हुई है। रूसी सेना ने रॉकेट तोपखाने के साथ खार्किव शहर पर भी गोलाबारी की है।
 

यूक्रेन के राष्ट्रपति ने यूक्रेन के अंतर्राष्ट्रीय रक्षा सेना में शामिल होने और रूसी सैनिकों पर हमला करने के खिलाफ यूक्रेन की ओर से लड़ने के इच्छुक किसी भी विदेशी के लिए प्रवेश वीजा की आवश्यकता को अस्थायी रूप से हटाने के एक आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं। राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की का फरमान मंगलवार से प्रभावी होगा और जब तक मार्शल लॉ लागू रहेगा तब तक यह प्रभावी रहेगा।

यूक्रेन को हथियार देगा कनाडा
कनाडा टैंक रोधी हथियार प्रणालियों, उन्नत गोला-बारूद के साथ यूक्रेन की मदद करेगा। साथ ही उसने रूस से कच्चे तेल के सभी आयातों पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का कहना है कि जल्दही शिपमेंट भेजे जाएंगे। कनाडा ने इस सप्ताह घोषणा की कि वह बॉडी आर्मर, हेलमेट, गैस मास्क और नाइट-विज़न गॉगल्स सहित सैन्य आपूर्ति के नए शिपमेंट भेजेगा। कनाडा रूस से ज्यादा तेल आयात नहीं करता है। ट्रूडो ने युद्ध को समाप्त करने का आह्वान करते हुए कहा कि इसकी लागत केवल तेज बढ़ेगी और जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *