थायरॉइड के लक्षणों को कम करने में मदद देगा धनिया का पानी

खराब लाइफस्टाइल के चलते लोगों को आज कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कम खाने के बाद भी अगर आपका वजन तेजी से बढ़ रहा है या 30 की उम्र में आप 50 साल के दिखने लगे हैं, तो समझ लें कि आप थायरॉइड के शिकार हो चुके हैं। पुरूषों के मुकाबले महिलाओं में 10 गुना ज्यादा थॉयराइड की शिकायत होती है। बता दें कि थायरॉइड एक महत्वपूर्ण ग्लैंड है, जो व्यक्ति की गर्दन के सामने स्थित है। यह शरीर के विकास और चयापचय को विनियमित करने के लिए कई हार्मोन का उत्पादन करने के अलावा मानव शरीर की विभिन्न चयापचय प्रक्रियाओं में मदद करती है।

हालांकि जब हार्मोन उत्पादन में असंतुलन होता है, तो थायरॉइड ग्लैंड को समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। थायरॉइड असंतुलन दो प्रकार का होता है हाइपोथायराडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म। यह स्थिति विटामिन बी-12 की कमी, जरूरत से ज्यादा आयोडीन की खपत, ग्लैंड में कैंसर की वृद्धि , ग्रंथि की सूजन के कारण पैदा हो सकती है। आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ. दीक्सा भावसार ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें उन्होंने धनिया के पानी (Coriander seed water) को थायरॉइड के मरीजों के लिए अमृत बताया है। इतना ही नहीं उन्होंने मरीजों के लिए धनिया का पानी बनाने और इसके सेवन का तरीका भी बताया है।

​जीवनशैली के कई विकारों को दूर करता है धनिया पानी-
विशेषज्ञ कहती हैं कि थायरॉइड के रोगियों के लिए धनिया का पानी अमृत है। यह जीवनशैली के कई रोगों डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल, मोटापा, अपच , हार्मोनल असंतुलन यहां तक की एसिडिटी और जरूरत से ज्यादा प्यास में भी एक आयुर्वेदिक डिटॉक्स के रूप में बढ़िया काम करता है। यूं तो लोग थायरॉइड को कम करने के लिए नियमित तौर पर दवा लेते हैं, लेकिन धनिया के पानी से दोनों तरह के थायरॉइड असंतुलन का इलाज किया जा सकता है।

​धनिया के आयुर्वेदिक गुण
    स्वाद- कसैला, कड़वा
    गुण- पचाने में हल्का
    पाचन के बाद प्रभाव- मीठा
    शक्ति- गर्म
    त्रिदोष पर प्रभाव- तीनों दोषों वात, पित्त और कफ को संतुलित करता है

​थायरॉइड के लिए धनिया का पानी कैसे बनाएं
धनिया का पानी बनाने के लिए 1 चम्मच पिसा हुआ धनिया 1 गिलास पानी में रातभर भिगो कर रख दें। इसे सुबह आधा होने तक उबालें। ठंडा होने पर छान लें और इस सुगंधित पेय का आनंद लें। बता दें कि इससे आपका मेटाबॉलिज्म बहुत तेजी से बढ़ता है।

​कैसे करें इसका सेवन
थायरॉइड की गोली खाने के एक घंटे बाद लें। अपनी गोली खाने के 1 घंटे बाद तक सादा पानी के अलावा कुछ भी पीने और खाने से बचना चाहिए। यह आपकी थायरॉइड ग्लैंड के लिए सबसे अच्छा है। उज्जयी और कपालभाती प्राणायाम अभ्यास के साथ सुबह सबसे पहले इसे एक महीने तक पियें। यह निश्चित रूप से थॉयराइड फंक्शन में सुधार करेगा और कुछ ही समय में आपको अपनी रिपोर्ट में अंतर देखने को मिलेगा।

​ब्लीडिंग, एसिडिटी के लिए इसका सेवन करने का तरीका
    एक भाग यानी 25 ग्राम कुचले हुए धनिए के बीज लें।
    इसमें छह भाग यानी 150 मिली पानी डालें।
    इसे रातभर या 8 घंटे के लिए ढंककर रख दें।
    अगली सुबह छानकर इसमें थोड़ी मात्रा में मिश्री मिलाकर खाली पेट इसका सेवन करें।
    रॉक शुगर के साथ दिन में 2-3 बार 10 से 30 मिली की मात्रा में भी लिया जा सकता है।

हर सुबह थायरॉइड का पानी पीने से न केवल थायरॉइड के लक्षण कम होते हैं बल्कि संपूर्ण स्वास्थ्य को भी बढ़ावा मिलता है। धनिया की जैविक प्रकृति के कारण आप ज्यादा स्वस्थ और ऊर्जावान महसूस करेंगे। धनिया का पानी पीने से न केवल आपको ताजगी का अहसास होगा बल्कि यह थॉयराइड सहित कई बीमारियों को भी ठीक करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *