विदेशी ताकतों की साजिश का मोहरा नहीं बनना, ये कहते हुए असद कैसर ने छोड़ा पद

इस्लामाबाद
विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव और इमरान सरकार के बीच दीवार बनकर खड़े नेशनल असेंबली के स्पीकर असद कैसर और डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी के इस्तीफे ने आखिरकार विपक्ष की राह आसान की। दिन भर कैसर ने सदन की कार्यवाही का संचालन किया और इस बीच चार बार सदन स्थगित की गई।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार रात 12 बजे से पहले प्रस्ताव पर मतदान कराया जाना था लेकिन ऐसा नहीं किया गया। कैसर और सूरी पर अदालती अवमानना की तलवार लटक रही थी। ऐसे में 12 बजे से ठीक पहले कैसर ने यह कहते हुए इस्तीफा देने की घोषणा वह विदेशी साजिश का हिस्सा नहीं बन सकते। इस्तीफे से पहले कैसर ने कहा, हमारे कानूनों और देश के लिए खड़े होने के लिए मैंने फैसला लिया है कि मैं स्पीकर के पद पर नहीं रह सकता इसलिए इस्तीफा देता हूं। चूंकि यह राष्ट्रीय कर्तव्य और सुप्रीम कोर्ट का आदेश है इसलिए मैं स्पीकरों के पैनल से अयाज सादिक को सदन का संचालन करने के लिए आमंत्रित करता हूं।

सादिक ने पीठासीन अधिकारी का पद संभालने के बाद पार्टी के पक्ष में खड़े रहने और इज्जत से पद छोड़ने के लिए कैसर की तारीफ की। इसके बाद उन्होंने सदन की घंटियां बजा कर सदस्यों मतदान की प्रक्रिया शुरू होने का संकेत दिया। उन्होंने रात 11.58 बजे मतदान की प्रक्रिया शुरू कर दी। पीटीआई के सदस्य सदन छोड़कर चले गए। हालांकि इसके बाद फिर दो मिनट के लिए सदन स्थगित करना पड़ा क्योंकि कानूनन रात 12 बजे के बाद पिछले दिन का सत्र जारी नहीं रह सकता। कार्यवाही दोबारा शुरू होने पर सत्ता पक्ष की अनुपस्थिति में प्रस्ताव बहुमत से पारित हुआ।

सेना के सामने रखीं तीन शर्तें
पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री इमरान खान ने सियासी घटनाक्रम में सेना का दखल कराने की भी पूरी कोशिश की। इमरान ने सौदेबाजी की कोशिश के तहत सेनाध्यक्ष कमर जावेद बाजवा के पास रक्षामंत्री परवेज खटक को दूत बनाकर मिलने भेजा। सूत्रों ने बताया कि इमरान ने प्रधानमंत्री पद छोड़ने के लिए शर्त रखी थी कि इस्तीफे के बाद उन्हें या उनके किसी मंत्री को गिरफ्तार नहीं किए जाने की गारंटी सेना की तरफ से दी जानी चाहिए। इसके साथ ही इमरान यह भी सुनिश्चित करवाना चाहते थे कि  शहबाज शरीफ के अलावा किसी और को प्रधानमंत्री बनाया जाए। तीसरी शर्त में खान ने सेना से कहा कि उन पर एनएबी के तहत मामला न चलाया जाए। इस दौरान एक जेल वाहन संसद के बाहर पहुंचने से खबरें उड़ीं कि इमरान को गिरफ्तार किया जाने वाला है।

आधी रात को सुप्रीम कोर्ट भी सक्रिय
रात 11 बजे तक भी अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान नहीं होने से पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने रात 12.30 बजे आपात सुनवाई करने का फैसला लिया। इसके लिए कोर्ट को खुलवाया गया और जज भी पहुंचने लगे। लेकिन इससे पहले ही नेशनल असेंबली के स्पीकर और डिप्टी स्पीकर के इस्तीफे की खबर आ गई। 12 बजे से पहले ही मतदान की प्रक्रिया भी शुरू हो गई। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई टाल दी गई।
 
नेशनल असेंबली के स्पीकर असद कैसर के इस्तीफे के तुरंत बाद इमरान खान ने प्रधानमंत्री का आधिकारिक आवास छोड़ दिया। पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ पार्टी (पीटीआई) के सीनेटर फैसल जावेद खान ने ट्वीट किया, मैंने पीएम इमरान को उनके आधिकारिक सरकारी निवास से बाहर छोड़ा। वह पूरी गरिमा से बाहर गए हैं और किसी के आगे नहीं झुके। उन्होंने पूरे देश का सिर ऊंचा किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *