चरित्र शंका बनी मृतिका की मौत, पति ने पत्थर से ही मार डाला पत्नी को

मृतिका की आठ वर्षीय बच्ची ने ही पुलिस को बताया कि पापा ही है मेरी माँ के हत्यारे

भिण्ड
पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र सिंह चौहान व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमलेश कुमार खरपूसे के नेतृत्व में तथा नगर पुलिस अधीक्षक आनंद राय के निर्देशन विगत 10-11 अपै्रल यानि विगत रात्रि को देहात थाना क्षेत्र के अंतर्गत अटेर रोड़ श्री कृष्ण नगर में किराये के मकान में निवासरत एक महिला को चरित्र शंका पर उसका पति ने पत्थर से कुचलकर हत्या कर फरार हो गया, जिसे देहात पुलिस ने महज पाँच घण्टों में ही गिरफ्तार कर लिया।

सीएसपी आनंद राय ने पत्रकारवार्ता में बताया कि विगत रात्रि को अटेर रोड़ श्री कृष्ण नगर में पति व पत्नी तथा एक आठ वर्षीय बच्ची उदल वर्मा के मकान में किराये पर लेकर काफी दिनों से रहे रहे थे, पति चूूँकि टीवी की बीमारी से पीडि़त है, जो किसी भी प्रकार का धंधा व जॉब नहीं करता, पत्नी रेश्मा मजदूरी करके अपने घर का संचालन करती थी, लेकिन घर के बाहर नौकरी करने जाती पत्नी रेश्मा के चरित्र पर पति शंका करने लगा था, वह घर से बाहर जाने की हर वक्त मना करता था, लेकिन पत्नी गेहूँ की फसल काटकर अपने घर का संचालन करती थी, तभी पति रहमान उर्फ गुड्डू खान पुत्र बुद्धे खान को ये रास नहीं आ रहा था, जिसकी वजह से उसने अपनी पत्नी को पत्थर से कुचलकर मौत के घाट उतार दिया।  

मृतिका की बच्ची ने देखी घटना, बताया पापा ने ही मारा है माँ को
उपरोक्त घटना की साक्षी मृतिका की आठ वर्षीय पुत्री अंजली खान ने करीब रात्रि 12 बजे अपने पिता रहमान खान के द्वारा अपनी पत्नी रेश्मा को पत्थर से कुचलकर मौत के घाट उतारकर भाग जाता है, उपरोक्त घटना उसकी आठ वर्षीय बच्ची अंजली अपनी आँखों से देखती, वह चिल्लाती है, तभी मकान मालिक जागकर आता है तो खून से लथपथ रेश्मा का शव जमीन पर पड़ा देखकर सबसे पहले एफआरव्ही को सूचना व देहात पुलिस को सूचना दी जाती है, पुलिस आध-एक घण्टें में घटनास्थल पहुँचकर तलाश करती है, उक्त मृतिका की बच्ची ने पुलिस को सारा राज बताते हुये कहा कि पापा मुरलीपुरा की और गये हुये हैं, तभी देहात थाना प्रभारी रामबाबू यादव दल-बल के साथ मुरलीपुरा की तरफ जाते हैं, लेकिन आरोपी हाथ नहीं लगता, इसके पीछे कारण था, कि आरोपी कभी भी मोबाइल का प्रयोग नहीं करता था, तभी आरोपी के नाते रिश्तेदारों को पतारसी हेतु पूछताछ के लिए बुलाया, तभी महज पाँच घण्टों में ही आरोपी गुड्डेू को पकड़ लिया गया।

मौत की वजह बनी वे-वजह घर से जाना
आरोपी से जब देहात पुलिस ने पुलिसिया अंदाज में पूछताछ की तो उसने बताया कि मेरी पत्नी रेश्मा पिछले कई दिनों से गेहूँ की फसल की कटाई करने के लिए खेतों पर जाने लगी थी, उसका मनमाने समय पर आना-जाना मुझे रास नहींं आ रहा था, जिसको मैंने कई बार रोका भी लेकिन वह फिर भी नहीं मानी, मुझे उसके चरित्र पर शंका हुई, शंका का दायरा बढ़ता गया, कि लड़ाई झगड़े होने लगे, और मेनें अपनी पत्नी का एन्ड्रोयड मोबाइल जिसको मैंने गुस्सें में तोड़ दिया, अपनी पत्नी के साथ हुये इस प्रकार के विवाद को मैंने अपने दिमाग में बैठा लिया, और पत्नी के सोने का इंतजार करने लगा, जैसे ही पत्नी नींद में हो गई तभी मैंने एक बड़े से पत्थर से उसकी कुचलकर हत्या कर, घटनास्थल से फरार हो गया। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त पत्थर को भी जब्त कर लिया।

आरोपी को पकडऩे में इनकी रही विशेष भूमिका
आरोपी गुड्डू उर्फ रहमान खान को पकडऩे में देहात थाना प्रभारी रामबाबू यादव, उपनिरीक्षक विजय शिवहरे, साकिर,, वीरेन्द्र बरैया, मृगेन्द्र, गुरूदास, संदीप, सुभाष तोमर इत्यादि की विशेष  भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *