धान उपार्जन केन्द्र सलौनी में लगभग 45 लाख गबन की शिकायत, कलेक्टर ने दिये एफआईआर कराने के निर्देश

बलौदाबाजार
कलेक्टर डोमन सिंह ने पलारी विकासखण्ड अंतर्गत धान उपार्जन केन्द्र सलौनी में गबन की शिकायत दर्ज की गई है। जिस पर कलेक्टर ने संबंधित अधिकारीयों को गबन करने वाले संबंधित प्रबंधक एवं कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिये है।

खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में सेवा सहकारी समिति सलौनी अंतर्गत धान उपार्जन केन्द्र सलौनी के द्वारा धान खरीदी का कार्य किया गया है। खाद्या विभाग द्वारा 29 अप्रैल 2022 के द्वारा धान उपार्जन केन्द्र का भौतिक सत्यापन संयुक्त जांच दल (राजस्व, खाद्य, सहकारिता एवं बैंक के अधिकारी/कर्मचारियों) द्वारा कराया गया। जिसमें धान उपार्जन केन्द्र सलौनी में भौतिक सत्यापन में कुल परिदान उपरांत धान के स्टॉक में 1606.71 क्विं. धान एवं 9932 नग बारदाना की असामान्य कमी पायी गई है। जो गबन एवं अफरा-तफरी की श्रेणी के अंतर्गत आता है एवं समर्थन मूल्य में धान खरीदी के लिए दिए गए शासकीय राशि का दुरुपयोग है। जिसे कलेक्टर डोमन सिंह के द्वारा गंभीरता से लेते हुए आदेशित किया गया है कि गबन एवं अफरा-तफरी के दोषियों धान उपार्जन केन्द्र सलौनी के प्रबंधक राजेन्द्र कुमार ठाकुर, फड़ प्रभारी व कम्प्यूटर आपरेटर संजय नेताम, मुकर्दम उमाशंकर बंजारे, पंजी संधारक (पूर्व फड़ प्रभारी) प्रवीण कुमार डहरिया, बारदाना प्रभारी राहुल ठाकुर के विरुद्व जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक मर्या. बलौदाबाजार शाखा रोहांसी के शाखा प्रबंधक भारत लाल साहू के माध्यम से तीन दिवस के भीतर प्रथम सूचना रिपोर्ट संबंधित थाने में दर्ज कराने के निर्देष दिये गये है साथ ही उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं जिला बलौदाबाजार-भाटापारा को निर्देषित किया गया है।

साथ ही दोषियों के चल-अचल सम्पति से उपरोक्त गबन की राषि की वसूली भी पृथक से की जायेगी। धान खरीदी केन्द्र सलौनी के द्वारा 31 लाख 17 हजार 17 रुपए समर्थन मूल्य की राशि एवं 8 लाख 99 हजार 758 रुपए उच्चानुुुुदान राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदत्त राशि तथा 4 लाख 73 हजार 930 रुपए बारदाने का मूल्य इस प्रकार कुल 44 लाख 90 हजार 705 रुपए की राशि के धान का गबन किया गया है। गौरतलब है कि जिले के कुल 153 समितियों के 182 खरीदी केन्द्र के माध्यम से कुल 696430.88 मे. टन धान की खरीदी की गई थी। जिसमें से कुल 696270.21 मे. टन का परिदान हो चुका है। जिले के कुल 182 खरीदी केन्द्रों में से 181 खरीदी केन्द्रों से धान का पूर्ण उठाव किया जाकर शून्य शर्टेज हो चुका है। एक मात्र खरीदी केन्द्र सलौनी द्वारा गबन/अफरा-तफरी किया जाकर पूर्ण परिदान नहीं कर शून्य शर्टेज नहीं किया गया है। कलेक्टर द्वारा किये गये व्यवस्था एवं समन्वय के कारण जिले में उपार्जित संपूर्ण धान का उपार्जन सुव्यवस्थित तरीके से 15 मार्च 2022 के पूर्व पूर्ण हो गया है। विगत वर्षो की तुलना में इस वर्ष धान का निराकरण समय पर पूर्ण हो गया है। उपार्जित धान में से कुल 99.98 प्रतिशत धान का पूर्ण निराकरण हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.