शिक्षिका से सवाल पूछती थी इसलिए प्रैक्टिकल परीक्षा में फेल कर दिया, फर्स्ट डिवीजन पास होकर भी छात्रा की सप्लीमेंट्री

बिलासपुर
समाज में गुरु को भगवान के समान दर्जा है। गुरुजन अच्छी शिक्षा देकर उन्नति का रास्ता दिखाते हैं, लेकिन गुरु ही छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करे तो क्या होगा? छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। शिक्षिका ने छात्रा को प्रायोगिक परीक्षा में सिर्फ इसलिए एबसेंट कर दिया कि वह सवाल बहुत पूछती थी। 10वीं की छात्रा ने 68 प्रतिशत अंक हासिल प्रथम श्रेणी में जगह बनाई है, बावजूद वह सप्लीमेंट्री आ गई। छात्रा ने रतनपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज करने आवेदन दिया है। वहीं छात्रा ने अपनी उपस्थित साबित करने सहपाठियों की गवाही लेने की गुहार लगाई है।

यह पूरा मामला कोटा विकासखंड के शासकीक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, चपोरा का है। गणित की शिक्षिका से सवाल करना 10वीं की छात्रा को महंगा पड़ा है। ग्राम सेमरा निवासी जयंती साहू के भविष्य के साथ शिक्षिका ने खिलवाड़ किया है। जयंती के पिता गुलाब साहू खुद भी शासकीय हाई स्कूल बछालीखुर्द में व्याख्यता और प्रभारी प्राचार्य हैं। जयंती ने इस वर्ष 10वीं की परीक्षा दी है। बोर्ड परीक्षा के परिणाम आए तो उसे 68 फीसदी नंबर मिले, लेकिन एक प्रैक्टिकल पेपर में अनुपस्थिति दर्ज होने की वजह से उसे पूरक (सेप्लीमेंट्री) दिया गया है। 14 मई को जैसे ही यह रिजल्ट उसके सामने छात्रा के होश उड़ गए। रिजल्ट देख छात्रा रो पड़ी। उसने परिजनों को बताया कि सभी विषयों की प्रायोगिक परीक्षा उसने दी है।

बहुत सवाल करती थी इसलिए एबसेंट किया
छात्रा व उसके पिता गुलाब साहू ने गणित की शिक्षिका प्रिया वाशिंग से फोन पर संपर्क किया। तब छात्रा के पिता को शिक्षिका ने जो कारण बताया वह हैरान करने वाला था। शिक्षिका ने कहा कि आपकी बेटी सालभर कक्षा में बहुत सवाल पूछती थी। उससे सवालों से परेशान हो गई थी, इसलिए उसे सजा देने व सबक सिखाने प्रायोगिक परीक्षा में अनुपस्थित की हूं। वहीं छात्रा जयंती साहू ने बताया कि उसने सभी विषयों की प्रायोगिक परीक्षा दी थी। उपस्थिति पत्रक में हस्ताक्षर भी किए हैं। इसके बाद भी उसे एबसेंट कर दिया गया। उन्होंने सहपाठी छात्रों से उपस्थिति की गवाही देने की गुहार लगाई है।

FIR दर्ज करने छात्रा की थाने में शिकायत
शिक्षिका प्रिया वाशिंग की इस गैरजिम्मेदाराना हरकत की वजह से छात्रा का साल खराब हो सकता है। शिक्षिका के खिलाफ छात्रा व उसके पिता ने एफआईआर करने आवेदन दिया है। पुलिस ने अभी एफआईआर दर्ज नहीं किया है। वहीं पुलिस का कहना है कि शिक्षिका को थाने बुलाया गया था। उन्होंने अपनी गलती मान ली और कहा कि परीक्षा में नंबर लिखने में त्रुटि हो गई, जिसके कारण यह हुआ। शिक्षिका ने थाने में माफीनामा भी पेश किया है। दूसरी ओर परीक्षा प्रभारी ने गलती सुधारते में मदद की बात कही है। शिक्षा विभाग अब इस लापरवाही पर क्या एक्शन लेगी यह बड़ा सवाल है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.